नोटबंदी का साइड इफेक्ट: करेंसी न मिलने से नाराज लोगों ने नहीं खुलने दिया बैंक

  • नोटबंदी का साइड इफेक्ट: करेंसी न मिलने से नाराज लोगों ने नहीं खुलने दिया बैंक
You Are Here
नोटबंदी का साइड इफेक्ट: करेंसी न मिलने से नाराज लोगों ने नहीं खुलने दिया बैंकनोटबंदी का साइड इफेक्ट: करेंसी न मिलने से नाराज लोगों ने नहीं खुलने दिया बैंकनोटबंदी का साइड इफेक्ट: करेंसी न मिलने से नाराज लोगों ने नहीं खुलने दिया बैंक

मऊ(जाहिद इमाम): नोटबंदी के 30 दिन बाद भी जनता पैसों की किल्लत से जूझ रही है। कई कई दिन लाइन में लगने के बाद भी उसे पैसे नहीं मिल पा रहे हैं। अब तो जनता के सब्र का बांध भी टूट गया है। ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में सामने आया है। जहां पैसे न होने की वजह से नाराज ग्रामीणों ने बैंक आफ बड़ौदा को खुलने नहीं दिया। 
मऊ जिले कोतवाली थाना क्षेत्र के मुगलपुरा इलाके में स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा को आज जनता ने खुलने नहीं दिया और बैंक के गेट पर खड़े होकर जमकर हंगामा किया। इस मामले की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंचकर जनता को आश्वासन दिया और बैंक को खोलवाया।

लोगों ने बताया कि पिछले कई दिनों से हम लोग पैसे लेने के लिए बैंक के बाहर लम्बी लाइन लगाकर इन्तजार करते हैं ताकि पैसे मिल जाएं। 10 बजे बैंक खोलते ही अधिकारी ‘नो कैस’ का बोर्ड लगा देते हैं। आज भी हम लोग सुबह से ही लाइन में लगे थे। लेकिन पता चला कि पैसे नहीं हैं तो हम लोगों ने बैंक को खुलने नहीं दिया। लोगों ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि जब बैंक में पैसे नहीं हैं तो अधिकारी बैंक खोलकर क्या करेंगे। 

UP News की अन्य खबरें पढ़ने के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!