योगी ने ली अखिलेश की चुटकी, Tweet से नहीं होता अन्नदाताओं का भला

  • योगी ने ली अखिलेश की चुटकी, Tweet से नहीं होता अन्नदाताओं का भला
You Are Here
योगी ने ली अखिलेश की चुटकी, Tweet से नहीं होता अन्नदाताओं का भलायोगी ने ली अखिलेश की चुटकी, Tweet से नहीं होता अन्नदाताओं का भलायोगी ने ली अखिलेश की चुटकी, Tweet से नहीं होता अन्नदाताओं का भला

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी(सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा किसानों की कर्जमाफी पर कटाक्ष किये जाने पर चुटकी ली है। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री ट्विटर पर प्रतिक्रिया व्यक्त करने के बजाय अपने शासनकाल में अन्नदाताओं के लिए कुछ कर दिये होते तो आज यह स्थिति न होती।

योगी ने कहा कि किसानों की हालत खस्ता करने के बाद अब अखिलेश यादव उन पर ट्विटर की राजनीति कर रहे हैं। सपा अध्यक्ष को विरासत में मिली कार्यसंस्कृति का विकास और संवेदना से कोई लेना देना नहीं है, इसीलिए वह किसानों के कर्जमाफी की ट््वीटर पर खिल्ली उड़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के राजनीतिक नेतृत्व में भ्रष्टाचारियों के कथित हस्तक्षेप की वजह से ही किसानों के हालात बदतर हुए हैं। अब उनकी सरकार इसे ठीक करने की पुरजोर कोशिश कर रही है। भ्रष्टाचार का आलम यह था कि उनके कार्यालय में 37 लाख प्रार्थनापत्र लंबित थे जिनमें अब तक 34 लाख का निस्तारण कर दिया गया है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सिर्फ ट्विटर की राजनीति से भला होने वाला नहीं है, इसलिए जमीन पर उतरकर भी काम करना चाहिए लेकिन अखिलेश यादव तो ट्विटर से कटाक्ष करने की राजनीति कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने किसानों के एक रुपये से एक लाख रुपये तक के कर्ज माफ किये हैं। सरकार ने घोषणा की थी कि एक लाख रुपये तक के कर्ज माफ किये जाएंगे। कई किसानों ने कर्ज का बड़ा हिस्सा जमा कर दिया था,उनका जो रुपया बाकी था सरकार ने उसे माफ कर कौन सी गलती की है। अखिलेश यादव इसे ट्विटर पर बता रहे हैं। उनका कहना था कि अखिलेश यादव ने ट्विटर पर स्तरहीन प्रतिक्रिया व्यक्त कर किसानों का मजाक उड़ाया है। इसका जवाब उन्हें किसान ही देंगे। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!