पत्रकार सैनिक से कम नहीं, उनके लिए सुरक्षा की पूरी व्यवस्था हो : कलराज मिश्र

  • पत्रकार सैनिक से कम नहीं, उनके लिए सुरक्षा की पूरी व्यवस्था हो : कलराज मिश्र
You Are Here
पत्रकार सैनिक से कम नहीं, उनके लिए सुरक्षा की पूरी व्यवस्था हो : कलराज मिश्रपत्रकार सैनिक से कम नहीं, उनके लिए सुरक्षा की पूरी व्यवस्था हो : कलराज मिश्रपत्रकार सैनिक से कम नहीं, उनके लिए सुरक्षा की पूरी व्यवस्था हो : कलराज मिश्र

वाराणसी: केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र ने यहां शामिल हुए एक कार्यक्रम के दौरान बिहार में हुई दो पत्रकारों की हत्या को लेकर कहा कि उनकी हत्या बहुत गलत है ,ये लोकतंत्र की हत्या है। पत्रकारिता का मापदंड का उल्लंघन करके कोई आगे बढ़ता है तो उस पर विचार करना पड़ता है। पत्रकारों की सुरक्षा की पूरी व्यवस्था होनी चाहिए। पत्रकार सैनिक से कम नहीं है इसलिए पत्रकार की पूरी सुरक्षा होनी चाहिए। इसके लिए हम राज्य सरकारों से बात करने की उम्मीद जताई है। 

बसपा, कांग्रेस पर बोला हमला
कलराज मिश्र ने काले धन पर कांग्रेस पर हमला बोला। उन्‍होने कहा कि सोनियां और राजीव गांधी ने कभी बैंक का दरवाजा भी नहीं देखा था, उनका बेटा राहुल 4000 रुपए बदलने के लिए लाइन में खड़ा हो रहा है। साथ ही मायावती पर भी निशाना साधते हुए कहा कि बसपा शासनकाल में भी भ्रष्टाचार चरम पर था। उसे इस परिवतन यात्रा के माध्यम से जनता को याद दिलाया जा रहा है।  

शादी वाले परिवारों के लिए अलग व्यवस्था करें बैंक
उन्होंने बैंको से अपील करते हुए कहा कि शादी वालो घरों के लिए कुछ अलग से व्यवस्था करें। पीएम के इस फैसले से कई बड़े जखीरेबाजी करने वाले बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। देश के अंदर आफ-सुथरी अर्थव्यवस्था को आगे बढऩे का प्रयास हो रहा हैं। उन्होंने कहा, ‘‘विदेशो से कालाधन लाने के लिए भी हमने जबरदस्त प्रयास किया है। फिर से यहां का धन विदेश न जाए इसके लिए सरकार ने कड़ा कानून बनाया है। एसआईटी विदेश में जमा कालाधन की लिस्ट तय करेगी और मामला सुप्रीम कोर्ट में है’’।

3 लाख करोड़ से ज्यादा कालाधन आया बाहर
कलराज मिश्र ने कहा कि जनता के साथ -साथ उनके घर वाले भी लाइन में लग कर करेंसी चेंज करवा रहे हैं। बीते कल उनकी पत्नी ने भी वाराणसी में बैंक में दो घंटे लाइन लगाकर करेंसी चेंज करवाई हैं। मैं बड़े गर्व से कह सकता हूं कि 3 लाख करोड़ से ज्यादा कालाधन बहार आया ये हमारी उपलब्धि हैं। कालाधन का करेक्ट आकलन लगाना मुश्किल है लेकिन 24 प्रतिशत कालाधन की अर्थव्यवस्था चल रही थी जिसे हमने सफेद करने का प्रयास किया हैं। 

UP News की अन्य खबरें पढ़ने के लिए Facebook और Twitter पर फॉलो करें

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You