मेरी आस्था पर विपक्ष कैसे उठा सकता है उंगली: योगी

  • मेरी आस्था पर विपक्ष कैसे उठा सकता है उंगली: योगी
You Are Here
मेरी आस्था पर विपक्ष कैसे उठा सकता है उंगली: योगीमेरी आस्था पर विपक्ष कैसे उठा सकता है उंगली: योगीमेरी आस्था पर विपक्ष कैसे उठा सकता है उंगली: योगी

अयोध्या: उत्तर पदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने छोटी दिवाली के कार्यक्रमों को संतों का आयोजन बताते हुए आज कहा कि उनकी आस्था पर विपक्ष कैसे उंगली उठा सकता है। 

योगी ने हनुमानगढ़ी और सुग्रीव किला के दर्शन करने के बाद कहा कि कल यहां आयोजित कार्यक्रमों का आयोजन संतों ने किया था। वह तो अपनी व्यक्तिगत आस्था के आधार पर उसमें शामिल हुये थे। विपक्ष या कोई अन्य उनकी आस्था पर सवाल कैसे उठा सकता है। उन्होंने कहा कि अयोध्या की अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर छवि और बेहतर बनानी है। पर्यटन को बढ़ावा दिया जाना है। रामजन्मभूमि आने वाले श्रद्धाुलुओं को सुविधायें मिलनी ही चाहिये।  

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग कल के आयोजनों पर अनावश्यक उंगली उठा रहे हैं। आयोजन संतों का था। संतों का सम्मान होना चाहिये और धार्मिक कार्यो में आस्था रखने वाले लोगों को उसमें शामिल होना चाहिये। अनावश्यक बयानबाजी से बचना चाहिये।

योगी ने रात्रि विश्राम यहीं किया था। सुबह ही वह हनुमानगढ़ी और सुग्रीव किला पहुंच गये थे। इससे पहले कल दीपोत्सव का ऐतिहासिक कार्यक्रम हुआ। राम का राज्याभिषेक हुआ और हेलीकाप्टर को पुष्पक विमान बनाकर राम लक्ष्मण और सीता के रुप में सजे आकर्षक बालकों को फैजाबाद हवाई पट्टी से सरयू तट पर स्थित रामकथा पार्क लाकर त्रेता युग की याद ताजा करने की कोशिश की गयी। मान्यताओं के अनुसार त्रेता युग में भगवान राम अनुज लक्ष्मण और सीताजी के साथ श्रीलंका से पुष्पक विमान के जरिये अयोध्या आये थे। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!