गोरखपुर कांड में 'हीरो' बनकर उभरे डा.कफील की सामने आई चौंकाने वाली सच्चाई

  • गोरखपुर कांड में 'हीरो' बनकर उभरे डा.कफील की सामने आई चौंकाने वाली सच्चाई
You Are Here
गोरखपुर कांड में 'हीरो' बनकर उभरे डा.कफील की सामने आई चौंकाने वाली सच्चाईगोरखपुर कांड में 'हीरो' बनकर उभरे डा.कफील की सामने आई चौंकाने वाली सच्चाईगोरखपुर कांड में 'हीरो' बनकर उभरे डा.कफील की सामने आई चौंकाने वाली सच्चाई

इलाहाबाद: बाबा राघवदास मेडिकल कालेज के बाल रोग विभाग के नोडल आफिसर डा कफील खान को कल रात उनके पद से हटा दिया गया। कफील को पहले उनके काम के लिये हीरो बनाया गया था लेकिन अब वह जीरो हो गये है। मीडिया ने उन्हें पहले बच्चों की जान बचाने के लिये गैस सिलेंडर का इंतजाम करने वाला एक अच्छा व्यक्ति बताया था लेकिन अचानक वह विलेन हो गये और अधिकारियों ने उन्हें उनके पद से हटा दिया।
PunjabKesari
जानकारी मुताबिक डॉ कफील बीआरडी मेडिकल कॉलेज के इन्सेफेलाइटिस डिपार्टमेंट के चीफ नोडल ऑफिसर हैं लेकिन वो मेडिकल कॉलेज से ज्यादा अपनी प्राइवेट प्रैक्टिस के लिए जाने जाते हैं। कफील पर आरोप है कि वो अस्पताल से ऑक्सीजन सिलेंडर चुराकर अपने निजी क्लीनिक पर इस्तेमाल किया करता थे।  बताया यह भी जा रहा है कि इस सारे हादसे में खुद को सुर्खियों में लाने के लिए उन्होंने अपने पत्रकार दोस्तों की मदद ली। 
PunjabKesari
वहीं मेडिकल कॉलेज के कई कर्मचारियों और डॉक्टरों ने बताया कि वह डॉक्टर कफील वहां होने वाली हर खरीद में कमीशन लेता था और उसका एक तय हिस्सा प्रिंसिपल राजीव मिश्रा तक पहुंचाता था। कर्मचारियों के मुताबिक 11 अगस्त को जब बच्चों की मौत की खबर पर हंगामा मचा तो कफील अपने प्राइवेट अस्पताल में थे। वहां से उन्होंने कुछ सिलेंडरों को अस्पताल भिजवा दिया। क्योंकि ये वो सिलेंडर थे जो वो खुद मेडिकल कॉलेज से चोरी करके ले गए थे। सभी का कहना था कि डॉक्टर राजीव मिश्रा, उनकी पत्नी पूर्णिमा शुक्ला और डॉ. कफील अहमद की वजह से यह दर्दनाक हादसा हुआ है। 
PunjabKesari
डॉ. कफील खान के सुर्खियों में आने के बाद उनके खिलाफ 2015 में लगे एक रेप के आरोप की चर्चा भी शुरू हो गई है। इस मामले में केस भी दर्ज हुआ था, लेकिन पुलिस ने जांच के बाद अपनी फाइनल रिपोर्ट में आरोप को झूठा बता कर खारिज कर दिया था।
PunjabKesari



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!