शिक्षामित्रों को मिला कांग्रेस का साथ, कहा-न्याय दिलाने के वायदे भूल गये PM

  • शिक्षामित्रों को मिला कांग्रेस का साथ, कहा-न्याय दिलाने के वायदे भूल गये PM
You Are Here
शिक्षामित्रों को मिला कांग्रेस का साथ, कहा-न्याय दिलाने के वायदे भूल गये PMशिक्षामित्रों को मिला कांग्रेस का साथ, कहा-न्याय दिलाने के वायदे भूल गये PMशिक्षामित्रों को मिला कांग्रेस का साथ, कहा-न्याय दिलाने के वायदे भूल गये PM

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में शिक्षामित्रों के आंदोलन का समर्थन करने की घोषणा करते हुए कांग्रेस ने आज भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेतृत्व वाली राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार के साथ केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को भी निशाना बनाया। 

मोदी पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कांग्रेस के पूर्व विधायक अजय राय ने कहा, ‘प्रधानमंत्री शिक्षामित्रों को न्याय दिलाने के अपने वायदे भूल गये हैं। उनकी सरकार जल्ली कट्टू के लिए अध्यादेश तो ला सकती है, लेकिन बच्चों के भविष्य निर्माण की नींव में योगदान देने वाले शिक्षामित्रों की चिन्ता उन्हें नहीं है।’

वाराणसी लोक सभा क्षेत्र में नरेंद्र मोदी से चुनावी मुकाबला कर चुके अजय राय ने आरोप लगाया कि भाजपा चाहती है कि प्राथमिक शिक्षा भी पूरी तरह निजी हाथों में सौंप दिया जाए, ताकि गरीबों के बच्चें आगे नहीं बढ़ पायें। यही वजह है कि सरकारी शिक्षा तंत्र को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने शिक्षामित्रों को उनके नौकरी हासिल करने के न्याय की लड़ाई में नैतिक समर्थन की घोषणा करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी गरीबों के खिलाफ की जा रही साजिश का पर्दाफाश करेगी। वह शिक्षामित्रों के न्याय हासिल करने के आंदोलन को आगे बढ़ाने में सहयोग करेगी। 

पिंडरा विधान क्षेत्र से कई बार विधायक रहे अजय राय और कांग्रेस नेता ललितेशपति त्रिपाठी के नेतृत्व में बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय पर धरना दे रहे शिक्षामित्रों से मुलाकात की और उन्हें समर्थन देने की घोषणा की। त्रिपाठी ने कहा कि गरीब परिवारों की शिक्षा की बुनियादी संरचना आज शिक्षामित्रों के बल पर चल रही है। उनके साथ न्याय का रास्ता निकालना सरकार की नैतिक जिम्मेदारी है लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण है कि बजट में योगी सरकार ने शिक्षा मद में आबंटन धनराशि घटाकर पहले ही अपनी नीयत जता चुकी है। 

उन्होंने कहा कि आज हालात ये है कि शिक्षामित्र नहीं हों, तो विद्यालयों के दरवाजे नहीं खुलते। लेकिन यह सब जानते हुए भी योगी सरकार गांव के गरीब बच्चों की शिक्षा के प्रहरियों के भविष्य पर खड़े प्रश्नचिह्न को लेकर ङ्क्षचता की बात तो दूर, वह अपने कानों में तेल डाले बैठी है। शिक्षामित्रों से मिलने वाले दल में अजय राय एवं श्री त्रिपाठी के अलावा छावनी परिषद के पार्षद शैलेंद्र सिंह तथा कांग्रेस नेता सतीश चौबे, संजय सिंह सहित अनेक कांग्रेसी नेता शामिल हैं। 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !