चुनाव आयोग का फैसला, यूपी में EVM से ही होंगे निकाय चुनाव

  • चुनाव आयोग का फैसला, यूपी में EVM से ही होंगे निकाय चुनाव
You Are Here
चुनाव आयोग का फैसला, यूपी में EVM से ही होंगे निकाय चुनावचुनाव आयोग का फैसला, यूपी में EVM से ही होंगे निकाय चुनावचुनाव आयोग का फैसला, यूपी में EVM से ही होंगे निकाय चुनाव

लखनऊ : इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को लेकर चल रहे विवाद के बीच उत्तर प्रदेश के राज्य निर्वाचन आयोग ने आज साफ कहा कि सूबे में नगरीय निकाय चुनाव में नगर निगमों के महापौर और पार्षदों के चुनाव ईवीएम से ही कराए जाएंगे।

राज्य के मुख्य निर्वाचन आयुक्त कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार ईवीएम मध्य प्रदेश से मंगाई जा रही हैं। उन्होंने बताया कि राज्य निर्वाचन आयोग ने मध्यप्रदेश के विभिन्न जिलों से ईवीएम मंगाने की कार्यवाही शुरू कर दी है। समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने ईवीएम में छेडछाड का आरोप लगाते हुए सभी चुनाव मतपत्रों से कराए जाने की पुरजोर मांग उठाई है। इन दोनों दलों के साथ ही समेत देश की 14 पार्टियों ने इस सम्बन्ध में चुनाव आयोग से मुलाकात की थी, हालांकि आयोग ने ईवीएम से छेडछाड की संभावना से इन्कार करते हुए दावा किया कि इस मशीन में गडबडी की ही नहीं जा सकती।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक दिन पहले ही मांग की थी कि अब सभी चुनाव मतपत्र से कराए जाएं जबकि सुश्री मायावती ने राज्य विधानसभा के नतीजे आने के दिन ही 11 मार्च को कह दिया था कि ईवीएम में छेडछाड की वजह से उनकी पार्टी चुनाव हार गई। बसपा ने 11 अप्रैल को ईवीएम से चुनाव नहीं कराने की मांग को लेकर राज्य व्यापी प्रदर्शन किया था। आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ईवीएम के खिलाफ लगातार मुहिम चलाए हुए है। वह बराबर कह रहे हैं कि ईवीएम में छेडछाड की वजह से भारतीय जनता पार्टी चुनाव जीतती जा रही है।

गौरतलब है कि नगरीय निकाय चुनाव के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने ईवीएम की 25 हजार कण्ट्रोल यूनिट तथा 50 हजार बैलेट यूनिट की निर्वाचन आयोग से मांग की थी। निर्वाचन आयोग ने आवश्यकतानुसार ईवीएम मशीनों के आवंटन के बाद उत्तर प्रदेश नगरीय निकाय सामान्य निर्वाचन 2017 में नगर निगम के महापौर तथा पार्षद का चुनाव ईवीएम से ही कराए जाने का निर्णय लिया है। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!