भाजपा की सांप्रदायिक राजनीति लोकतंत्र को कर रही कमजोर: अखिलेश

  • भाजपा की सांप्रदायिक राजनीति लोकतंत्र को कर रही कमजोर: अखिलेश
You Are Here
भाजपा की सांप्रदायिक राजनीति लोकतंत्र को कर रही कमजोर: अखिलेशभाजपा की सांप्रदायिक राजनीति लोकतंत्र को कर रही कमजोर: अखिलेशभाजपा की सांप्रदायिक राजनीति लोकतंत्र को कर रही कमजोर: अखिलेश

लखनऊ: समाजवादी पार्टी(सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि सपा अपने सिद्धांतों पर चलते हुए समाजवाद, लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता के लिए लगातार संघर्षशील रही है। 

अखिलेश यादव वीरवार को पार्टी मुख्यालय में समाजवादी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रजापति समाज को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि सपा ने अपने सिद्धांतों पर चलते हुए समाजवाद, लोकतंत्र एवं धर्मनिरपेक्षता के लिए लगातार काम किया। संगठन में मजबूती लाने एवं 2019 एवं 2022 में सफलता के लक्ष्य को लेकर पार्टी में सदस्यता भर्ती का अभियान चलाया जा रहा है। 

सपा अध्यक्ष ने कहा कि देश इस समय बाहरी और भीतरी तमाम समस्याओं से जूझ रहा है। सीमाएं असुरक्षित है। आतंकवाद पर लगाम नहीं है। केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) इससे आंखे मूंदे हुए है। वह जान बूझकर इनका समाधान नहीं चाहती है। केंद्र और राज्य की भाजपा सरकारों को विकास के लिए ठोस कदम उठाने की जगह देश को गुमराह करना और समाज को उलझाए रखना आसान लगता है। भाजपा की सांप्रदायिक राजनीति लोकतंत्र को कमजोर करती है।

उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार के विकास से भाजपा चिढ़ी हुई है। समाजवादी सरकार में सभी का सम्मान सुरक्षित था। आज तो पुलिस और अधिकारियों को भी अपमान का सामना करना पड़ रहा है। सामाजिक न्याय के लिए सपा काम करती रही है। इस संबंध में उन्होंने जातीय जनगणना की मांग की, क्योंकि इसके खुलासे से ही सामाजिक न्याय का रास्ता आसान होगा। इससे उनके विकास के लिए नीतियां बनाने में सफलता मिलेगी।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !